ए थर्सडे: ज़ख्मी औरत का ‘ए वेडनस्डे’ अवतार

यामी गौतम की नई फिल्म ‘ए थर्सडे’ 2008 की फिल्म ‘ए वेडनस्डे’ वाले रास्ते पर चलते हुए भी बचकाने ट्रीटमेंट की वजह से उस जैसा प्रभाव नहीं छोड़ पाती।

रूसी सिनेमा का नया अवतार

विश्व सिनेमा में रूस के योगदान पर जब भी बात होती है तो हम आम तौर पर सर्जेई आइजेंस्टाइन और आंद्रे तारकोवस्की का नाम लेते हैं और हमारी सूची वहीं पर समाप्त हो जाती है पर हाल के सालों में स्थिति काफी बदली है।

रिश्तों की ‘गहराइयां’ दिखाती एक उथली फिल्म

गहराइयाँ अपने शीर्षक से उलट उथली फिल्म है जिसे सिर्फ और सिर्फ दीपिका पादुकोण के अच्छे अभिनय ने कुछ बचा लिया है।

15 साल की लता मंगेशकर के जीवन का एक दिन… मोती बीए की कलम से

लता ने अपने साथ-साथ आशा भोसले और उषा मंगेशकर को भी अमर कर दिया। अमरत्व का यह स्थान प्राप्त करने में लता को कितनी ठोकरें खानी पड़ीं और कितना संघर्ष करना पड़ा।

रंग दे बसंती: ‘डीजे’ से ‘लक्ष्मण’ तक के जागने की कहानी

26 जनवरी के दिन देशभक्ति के माहौल में राकेश ओमप्रकाश मेहरा की रंग दे बसंती की बात ज़रुर की जानी चाहिए… जो इसी दिन साल 2006 में रिलीज़ हुई थी। मुख्यधारा की ये फिल्म...

गाइड: क्या से क्या हो गया…

विजय आनंद एक ऐसे लेखक-निर्देशक रहे हैं, जिन्होने गाइड जैसी क्लासिक फिल्म भी बनाई और ज्वेल थीफ, जॉनी मेरा नाम जैसी कल्ट फिल्में भी। 22 जनवरी को उनके जन्मदिन के मौके पर उनकी ऑलटाइम...

‘पारो’ के जीते जी… और ‘पारो’ के जाने के बाद

सुचित्रा सेन दिलीप कुमार की तर्ज पर महज 65 फिल्मों में काम करके भारतीय फिल्म इतिहास की महानायिका बन गयीं। पुण्यतिथि विशेष।

बासु चटर्जी की ‘रजनीगंधा’: यही सच है

10 जनवरी बासु चटर्जी का जन्मदिन होता है। हिंदी सिनेमा में मध्यवर्ग के जीवन, उसके सपनों, आकांक्षाओं और कशमकश को लेकर मनोरंजक , साफ-सुथरा और सार्थक सिनेमा बनाने वाले भारतीय सिनेमा के सबसे संजीदा...